/देवा गुर्जर मामले का मास्टरमाइंड है बिदुड़ी ?

देवा गुर्जर मामले का मास्टरमाइंड है बिदुड़ी ?

एक महान दार्शनिक ने कहा था कि जब दोस्त ही शामिल हो, दुश्मनों की चाल में,तब शेर भी फस जाता है मकड़ी के जाल में|एसा ही कुछ हुआ देवा गुर्जर उर्फ़ देवा डॉन के साथ| 4 अप्रैल 2022 को शाम 5 बजे देवा गुर्जर के एक दोस्त ने बड़ी बेरहमी के साथ देवा की हत्या कर दी| जिसके कारण लोगों में आक्रोश इतना बढ़ गया की पुलिस को कर्फ्यू लगाना पड़ा| एक हिस्ट्रीशीटर लोगों के दिलों  में इतना बस चूका था की उसकी मौत पर पूरा राजस्थान हिल गया|पर अब ये हत्याकांड एक सियासी रूप ले चुका है जिसमें कांग्रेस के विधायक भी शक के घेरे में आ चुके है| पर आखिर कौन था इस हत्या का मेन मास्टर माइंड?

चलिए सबसे पहले बात कर लेते है देवा गुर्जर की|15 जून 1987 को जन्मे देवा गुर्जर ने 12वी कक्षा के बाद से ही अवैध वसूली, प्रॉपर्टी विवाद को निपटाने जैसे कामों को शुरू कर दिया था| आपको बता दें देवा गुर्जर उर्फ़ देवा डॉन कोटा के आरकेपुरम थाने का हिस्ट्रीशीटर था| वहां उस पर 15 से अधिक मामले दर्ज है| पर देवा गुर्जर को एक और शौक भी था और वो था इन्स्ताग्राम रील्स बनाने का| आपको बता दें की देवा डॉन के सोशल मिडिया पर 2 लाख से भी अधिक फॉलोअर है| 

वह जो भी पैसा कमाता था उसका कुछ हिस्सा लोगों और समाज पर खर्च कर देता था जिससे लोगों में उसकी एक अलग ही छवि बनी हुई थी| इसी कारण देवा गुर्जर लोगों में बहुत लोकप्रिय था|इसी कारण देवा की हत्या के बाद लोगों का आक्रोश इतना बढ़ गया की पुलिस को कर्फ्यू लगाने की नौबत आ गयी|पर देवा की हत्या की किसने और क्यों?देवा सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहता था| वह रोजाना अपने कई वीडियो अपलोड किया करता था| इसी कारण साल 2021 के अक्टूबर को एक दिन देवा अपने कैमरा मैंन के साथ रील्स बनाने गया था| वहां उसकी मुलाकात होती है बाबू गुर्जर से| लोगों की माने तो बाबू गुर्जर , देवा के पास काम मांगने आया था| और देवा ने बाबू को एक प्लाट खाली कराने का काम भी दे दिया| इसके बाद से ही बाबू , देवा के और करीब आता गया|दोनों में काफी घनिष्ठ याराना हो चुका था। और ये घनिष्टता इतनी बढ़ गयी की दोनों साथ में ही खाते-पीते और घूमते थे और सोशल मीडिया इंस्टाग्राम रील्स भी साथ ही बनाने लग गए थे। पर बाबू की नजर देवा के पैसो पर थी| और इन्ही पैसो को हड़पने के लिए 23 मार्च को बाबू गुर्जर ने देवा को फ़ोन किया और 5 लाख की फिरौती की मांग की और पैसा नहीं देने पर जान से मरने की धमकी भी दी|और इस बात को लेकर हत्या के 8 दिन पहले देवा गुर्जर ने पुलिस को एक चिट्‌ठी लिखी। इसी चिट्‌ठी में देवा ने अपनी हत्या की संभावित वजह का भी जिक्र किया। देवा की पुलिस को लिखी इस चिट्‌ठी में 6 लोगों के नाम भी दिए गए थे। साथ ही देवा ने यह भी साफतौर पर कहा था कि इन 6 लोगों के खिलाफ उसके पास सबूत भी हैं। ये सबूत उसके यानि देवा गुर्जर के मोबाइल में रिकॉर्ड हैं।देवा द्वारा पुलिस को चिठ्ठी लिखने से बाबू गुर्जर नाराज हो गया और फिर उसने देवा को मारने का प्लान बनाया|

4 अप्रैल सोमवार के दिन देवा अपनी गाड़ी ठीक कराने रावतभाटा गया हुआ था| देवा ने गाड़ी को एक मिस्त्री के पास छोड़ा और बाल कटाने के लिए एक नाइ की दुकान में चला गया| पर देवा के इस मूवमेंट की जानकारी बाबू को चल चुकी थी| देवा के दुकान में घुसने के कुछ देर बाद ही जब दुकान में देवा अकेला था तो करीब 10-12 लोग सरियों और डंडों के साथ घुसे और देवा पर ताबड़तोड़ वार शुरू कर दिए। इस हत्या के बाद हत्यारे फरार हो गए थे। सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल हो रहा है जिसमें देवा को मारकर भागते हुए कुछ लोग दिख रहे हैं। हत्या के बाद देवा के भाई अमरलाल के बयान के अनुसार 5 लाख रुपए की फिरौती मांगने वाले बदमाश बाबू गुर्जर ने देवा की हत्या की है। और इस हत्या में बाबू के साथ परसराम, श्योपाल, श्योपाल के भाई बाबूलाल, भैरू गुर्जर, बंशी बंजारा, बबलू जाट, कालू, चैनसुखराम और गोपाल भी शामिल थे। इस हत्याकांड के बाद पुलिस ने दबिश देकर हत्यारों को पकड़ना शुरू किया और मुख्य आरोपी बाबू गुर्जर को पकड़ लिया पुलिस ने जिन आरोपियों को गिरफ्तार किया उसमें एक था बबलू उर्फ बलराम जाट आखिर कौन है ये बलराम जाट?लोगों की माने तो बलराम जाट बेगूं विधायक राजेंद्र बिधुडी का करीबी है| हत्या के एक दिन पहले बलराम जाट को  कांग्रेस के डिजिटल सदस्यता अभियान में रावतभाटा ब्लॉक में प्रभारी की जिम्मेदारी दी गई थी| इस सनसनीखेज खुलासे के बाद पुलिस ने बलराम जाट के संपर्कों की कुंडली को खंगाला तो पता चला की बलराम का ब्लॉक प्रभारी के पद पर मनोनयन चित्तौड़गढ़ के बेगूं से कांग्रेस विधायक राजेंद्र सिंह बिधूड़ी की सहमति से हुआ था|ये वही राजेंद्र सिंह बिधूड़ी है जिनका कुछ दिन पहले एक ऑडियो वायरल हुआ था जिसमें विधायक राजेंद्र सिंह बिधूड़ी भैंसरोगढ़ थाना अधिकारी संजय गुर्जर जमकर गाली-गालौज कर रहे थे और गलत धाराओं में किसी निर्दोष को फ़साने के लिए दबाब बना रहे थे पर जब एसएचओ ने उनकी मर्जी की धारा जोड़ने से मना किया तो विधायक राजेंद्र सिंह बिधूड़ी ने उसे 15 दिन में बर्खास्त करने की धमकी दी|पर जैसे ही ये मामला सुलट पाता उससे पहले एक और विडियो वायरल हो गया| और ये विडियो था लाला गुर्जर का| लाला गुर्जर ने अपने विडियो में ये आरोप लगाया कि देवा गुर्जर की मौत के पीछे एक नाम और है और ये नाम है राजेंद्र सिंह बिधूड़ी का जो कि कांग्रेस विधायक हैं। इसमें वे यह भी कह रहें है की सता में होने के कारण राजेंद्र सिंह बिधूड़ी के उपर कोई कार्यवाही नहीं होगी पर समाज उसे बहिष्कार कर दे|पर क्या सचमुच राजेंद्र सिंह बिधूड़ी ही मेन मास्टर माइंड है| पुलिस इस बात की तहकीकात में जुटी हुई है|फिरौती की रकम से शुरू हुआ से सिलसिला अभी तक नहीं थमा है अब ना जाने और कितने नाम सामने आने बाकि है| पर अभी भी कुछ सवाल है जिनके जवाव मिलना बाकि है जैसे –बाबू गुर्जर जो की एक छोटा मोटा बदमाश था ने किसके कहने पर देवा डॉन की हत्या को अंजाम दिया|आखिर क्यूँ सियासती इस मामले को CBI के हवाले नहीं करना चाहते| इतना ही आज के इस विडियो में, इसी के साथ अब मै इजाजत चाहूँगा|मिलेंगे आपसे अगले विडियो में एक नयी खबर के साथ|तब तक के लिए धन्यवाद ||

और देखिए