/शहीदो पर वीरेंद्र चौधरी के बिगड़े बोल और फिर सफाई भी

शहीदो पर वीरेंद्र चौधरी के बिगड़े बोल और फिर सफाई भी

राजस्थान के सीकर जिले की दांतारामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस विधायक वीरेंद्र सिंह चौधरी (Virendra Singh Chowdhary) ने देश के शहीद सैनिकों पर विवादित बयान दिया है. विधायक वीरेंद्र चौधरी ने कुन्नूर हेलीकॉप्टर हादसे में सीडीएस बिपिन रावत (CDS Bipin Rawat) और अन्य शहीदों की शहादत पर सवाल खड़े करते हुये इसे चुनाव जीतने के लिए सियासी साजिश करार दिया. हैं. चौधरी ने सीकर के धीरजपूरा गांव में बुधवार को शहीद मुकेश कुमार की मूर्ति के अनावरण समारोह में कहा कि अगर कोई फौजी बॉर्डर पर सीने पर गोली खाकर शहीद हो तो गर्व होता है लेकिन राजनीतिक साजिश की वजह से शहीद होता है तो ठीक नहीं है. चौधरी ने जब कोई सैनिक राजनीतिक षड्यंत्र के लिए शहीद होता है तो मन में काफी दुख होता है. विधायक वीरेन्द्र सिंह आरोप लगाया कि केंद्र में बीजेपी की सरकार काबिज हुई तो उसके बाद वे नोटबंदी लेकर आए लेकिन काला धन लेकर तो नहीं आए. हमारी बहन बेटियों और मांओं की जो जमा पूंजी थी उसे जरुर सबके सामने लाकर रख दिया. उसके बाद जब उन्हें लगा कि इससे कोई फायदा नहीं होगा तो एक अजीब संयोग हुआ. उन्होंने कहा कि पुलवामा में जो हमला हुआ वहां एक गाड़ी आती है और विस्फोट होता है. उसमें हमारे 44 फौजी भाई शहीद हो जाते हैं और केंद्र में बीजेपी की सरकार बन जाती है. उसके बाद बिहार चुनाव से पहले एक हमले में कई फौजी भाई शहीद हो जाते हैं और बीजेपी की सरकार बन जाती है. अब यूपी चुनाव से पहले बिपिन रावत जिस हेलीकॉप्टर में जाते हैं वह हेलीकॉप्टर क्रैश हो जाता है. इससे लोगों में देशभक्ति की भावना पैदा कर राजनीतिक फायदा उठाया जाता है. यह देश के लिए गलत है. विधायक चौधरी ने कहा कि जब जब चुनाव आए तब ही शहादत क्यों ? विधायक वीरेन्द्र चौधरी ने पुलवामा से लेकर हेलिकॉप्टर हादसे की शहादत पर सवाल खड़े करते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव से पहले पुलवामा में शहादत फिर बिहार चुनाव से पहले गलवान में शहादत और अब यूपी और उत्तराखंड के चुनाव पहले हेलीकॉप्टर हादसे में शहादत. उन्होंने कहा कि इससे सवाल खड़ा हो रहा है कि यह चुनावी फायदे के लिए सियासी साजिश तो नहीं है. बेशर्मी से भरे इस बयान को आप भी सुनिए 

 

वीरेन्द्र चौधरी राजस्थान कांग्रेस के पूर्व में प्रदेशाध्यक्ष रहे नारायण सिंह चौधरी के बेटे हैं. वे पहली बार दांतारामगढ़ विधानसभा क्षेत्र से चुनाव जीते हैं. पूर्व में पंचायत समिति प्रधान रह चुके वीरेन्द्र सिंह चौधरी पत्नी रीटा चौधरी सीकर की जिला प्रमुख रह चुकी हैं. नारायण सिंह इस विधानसभा क्षेत्र से कई बार विधायक रहे हैं. सीडीएस बिपिन रावत की शहादत पर कांग्रेस विधायक के सवाल उठाने के बाद बीजेपी ने मांग की है कि या तो वह शहादत की सियासी साजिश के आरोप का प्रमाण पेश करें नहीं तो शहीदों के अपमान के लिए देश से माफी मांगे. चौमूं से बीजीपी विधायक एवं पार्टी के प्रवक्ता रामलाल शर्मा ने वे इस बयान की निंदा करते हैं. इससे जाहिर हो रहा है कि वे कांग्रेस किस मानसिक अवसाद के अंदर है. इस बयान की चौहतरफा निंदा के बाद उन्होने इसका ये स्पष्टिकरण भी दिया.. 

 

आगे देखिए