/6 की छुट्टी, 10 की एंट्री राजस्थान कैबिनेट में | 6 out and 10 in Numbers in rajasthan cabinet

6 की छुट्टी, 10 की एंट्री राजस्थान कैबिनेट में | 6 out and 10 in Numbers in rajasthan cabinet

राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार में मंत्रिमंडल का विस्तार होने वाला है। तारीख अभी तय नहीं हुई है, मगर माना जा रहा है अगले माह यानी अगस्त में कैबिनेट विस्तार होगा। राजस्थान की सियासत के जानकारों का मानना है कि राजस्थान कैबिनेट विस्तार 2021 में अगर सीएम अशोक गहलोत की चली तो एक-दो मौजूदा मंत्रियों की छुट्टी होना तय है। जबकि सचिन पायलट अड़ गए तो एक दो की बजाय 6-7 मंत्रियों की कुर्सी जा सकती है। कहा तो यह भी जा रहा है कि अगर राजस्थान सरकार के इस बार के मंत्रिमंडल विस्तार में ना तो सीएम अशोक गहलोत की चले और ना ही पूर्व उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट की। कांग्रेस आलाकमान राजस्थान मंत्रियों के प्रदर्शन के आधार पर कुछ तय करे तो कई मंत्री नप सकते हैं। राजस्थान में मंत्रिमंडल फेरबदल की चर्चाओं के बीच शिक्षा राज्यमंत्री गोविंद सिंह डोटासरा की छुट्टी लगभग तय मानी जा रही है।

खुद गोविंद सिंह डोटासरा इस तरह के संकेत दे रहे हैं। डोटासरा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है, जिससे वे राजस्थान माध्यमिक शिक्षा बोर्ड अजमेर के अध्यक्ष डीपी जारोली से कह रहे हंर कि ‘मेरे पास एक घंटे फाइल नहीं रुकेगी। आप सोमवार को आ जाओ। एक मिनट में निकाल दूंगा, जितनी कहोगे। मैं दो पांच दिन का ही मेहमान हूं। मुझसे जो कराना है करा लो ,राजस्थान मंत्रिमंडल विस्तार पर कांग्रेस हाईकमान की खास नजर है। इसकी एक वजह अशोक गहलोत व सचिन पायलट गुट के बीच सालभर से जगजाहिर हो रहा मनमुटाव भी है। प्रदेश प्रभारी अजय माकन हाल ही राजस्थान आए थे।

पायलट व उनके समर्थक विधायकों से भी चर्चा की थी। अब माकन 28-29 जुलाई को राजस्थान आएंगे और हर विधायक से बात करके मंत्रिमंडल विस्तार को अंतिम रूप देंगे। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार के कैबिनेट विस्तार में गहलोत व पायलट की बजाय हाईकमान की चली और फेरबदल का आधार परफॉर्मेंस-पॉलिसी बनी तो कई मंत्रियों की कुर्सी संकट में है। इनमें छह मंत्रियों का नाम प्रमुख है। गोविंद डोटासरा, उदयलाल आंजना, सहकारिता, ममता भूपेश, भजनलाल जाटव, . प्रमोद जैन भाया, सुखराम विश्नोई, राजस्थान मंत्रिमंडल में अभी नौ वैंकेसी हैं। अगर कैबिनेट विस्तार में आलाकमान की बजाय अशोक गहलोत और सचिन पायलट अपनी-अपनी चलाने में सफल रहे तो सचिन पायलट गुट के 3 और अशोक गहलोत गुट के 7 विधायकों का मंत्री बनना तय है।